सूचना का अधिकार अधिनियम (आर टी आई)

अध्याय - II

अधिकारियों एवं कर्मचारियों की शक्तियां एवं कार्य

कंपनी के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की शक्तियां एवं कार्य मुख्यतः कंपनी अधिनियम, 1956 और कंपनी के संगम ज्ञापन एवं संगम अनुच्छेद से प्रसूत हुए हैं । कंपनी के अधिकारी एवं कामगार कंपनी का कारोबार प्रचालन कंपनी के संगम ज्ञापन में विनिर्दिष्ट उद्देश्यों के अनुसार करते हैं ।

कंपनी के अधिकारी एवं कामगार अपने कार्यों एवं दायित्वों का निर्वहन करते समय सभी लागू संविधियों के लागू प्रावधानों और उनके अंतर्गत निर्मित नियमों एवं विनियमों का अनुपालन कर रहे हैं ।

एनटीपीसी लि. कंपनी अधिनियम, 1956 के प्रावधानों के अधीन पंजीकृत सरकारी कंपनी है । अतः इसके निदेशकों की शक्तियों एवं कार्यों तथा कारोबार प्रचालन का नियमन कंपनी अधिनियम, 1956 के प्रावधानों, कंपनी के संगम ज्ञापन एवं अनुच्छेद तथा विभिन्न विधियों के अंतर्गत अधिनियमित अन्य कानूनों के अनुसार किया जाता है ।

कंपनी अधिनियम 1956 के अधीन पंजीकृत होने के कारण, कंपनी के संगम अनुच्छेद के अनुसार, कंपनी के कार्यों का प्रबंधन करने की शक्ति निदेशक मंडल पर है । निदेशक मंडल ने केवल ऐसे मामलों को छोड़कर जिनमें मंडल तथा भारत के राष्ट्रपत97 के कार्यालय ज्ञापन सं. डीपीई/11(2)/97-वित्त द्वारा निर्दिष्ट शर्तों के अनुपालन के अधीन किया जाएगा । लोक उद्यम विभाग, उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार के कार्यालय ज्ञापन संख्या 22(1)/2009-पी.एम-पी.एल-101 दिनांक 19.05.2010 के द्वारा कंपनी को "महारत्न " का दर्जा दिया गया है। "महारत्न " दर्जे के साथ मिलने वाली शक्तियां निम्नलिखित हैः-

 

  1. बिना किसी मौद्रिक सीमा के पूंजीगत व्यय करना

  2. प्रौद्योगिकी संयुक्त उद्यम या नीतिगत गठबंधनों में शामिल होना

  3. संगठनात्मक पुनर्गठन करना

  4. मंडल से भिन्न स्तर के निदेशकों अर्थात् कार्यनिदेशकों सहित सभी पदों का सृजन एवं समापन करना

  5. कार्मिक एवं मानव संसाधन प्रबंध से संबंधित स्कीमों का गठन् एवं क्रियांवयन करना

  6. घरेलू पूंजी बाजारों से ऋण जुटाना और उधार हेतु अंतर्राष्ट्रीय बाजार से ऋण जुटाना

  7. वित्तीय संयुक्त उद्यमों तथा पूर्ण स्वामित्वाधीन सहायक कंपनियों की स्थापना इस शर्त के अधीन करना कि कंपनी का इक्विटी निवेश निम्नलिखित तक सीमित होना चाहिएः-

    1. किसी एक परियोजना के लिए 5000 करोड़ रुपए

    2. किसी एक परियोजना के लिए कंपनी की निवल संपत्ति का 15%

    3. सभी संयुक्त उद्यमों/सहायक कंपनियों में कुल मिलाकर कंपनी की निवल संपत्ति का 30%