मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी - सिम्हाद्रि की तीसरी 500 मेगावाट इकाई ने पूर्ण लोड प्राप्त किया

11th सितम्बर, 2011

एनटीपीसी - सिम्हाद्रि सुपर थर्मल पावर स्टेशन की तीसरी 500 मेगावाट इकाई के वाणिज्यिक प्रचालन की घोषणा करते हुए केन्द्रीय विद्युत मंत्री श्री सुशीलकुमार शिंदे ने आज विषाखपटनम में कहा कि भारत विद्युत क्षेत्र में तीव्र क्षमता वर्द्धन के साथ तेज गति से आगे बढ़ेगा। इस अवसर पर श्री वी. वसंत कुमार, पर्यटन एवं संस्कृति, पुरातत्व विज्ञान एवं संग्रहालय, अभिलेखागार एवं युवा सेवा तथा खेल मंत्री, आंध्र प्रदेश; श्री अरूप रॉय चौधरी, अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेषक, एनटीपीसी; एनटीपीसी के निदेशकगण तथा आंध्र प्रदेश के जाने-माने नेता और नागरिक उपस्थित थे। श्री शिंदे ने कहा कि सभी तक बिजली पहुँचाने के उद्देष्य से बिजली की कमी को पूरा करने हेतु पारेषण और वितरण में होने वाली हानि में कमी करने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं। आपने कहा कि उन सभी लोगों के हितो की रक्षा की जाएगी जो विद्युत परियोजनाओं के लिए अपनी ज़मीन दे रहे है।

Simhadri Attains Full Load

सिम्हाद्रि, एनटीपीसी की प्रथम तटीय आधारित तथा कोयले से चलने वाली आधुनिकतम नियंत्रण और इंस्ट्रुमेंटेशन प्रणाली से युक्त थर्मल पावर परियोजना है। इसकी तीसरी इकाई के वाणिज्यिक प्रचालन के साथ स्टेशन की स्थापित क्षमता 1500 मेगावाट हो गई है। स्टेशन के दूसरे चरण से दक्षिणी क्षेत्र के राज्यों को बिजली दी जाएगी।

इस परियोजना की प्रथम 500 मेगावाट इकाई को 39 महीने के रिकॉर्ड समय में पूरा किया गया था और दूसरी इकाई भी निर्धारित समय से पहले ही पूरी कर ली गई थी, जो भारत में इस आकार की हरित क्षेत्र परियोजना के लिए एक मिसाल है। यह एशिया की पहली परियोजना है जिसे परियोजना कार्यान्वयन के लिए वर्श 2005 में आईपीएमए पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

सिम्हाद्रि परियोजना भारत में समुद्री पानी की सबसे बड़ी अंतर्ग्रहण प्रणाली है जिसे बंगाल की खाड़ी में लगाया गया है। इसके नैचुरल ड्राफ्ट कूलिंग टावर 165 मीटर ऊंचाई के साथ एशिया में सबसे बड़े और दुनिया में छटे सबसे ऊँचे टावर हैं।

एनटीपीसी के दक्षिणी क्षेत्र की कुल स्थापित क्षमता 4450 मेगावाट और चालू परियोजनाएँ 2500 मेगावाट क्षमता की हैं। इस क्षेत्र में 10370 मेगावाट की नई परियोजनाएँ है तथा 145 मेगावाट की नवीकरणीय परियोजनाएँ विचाराधीन हैं।

34854 मेगावाट की स्थापित क्षमता के साथ एनटीपीसी देष की सबसे बड़ी विद्युत उपयोगिता है और इसकी 40,000 मेगावाट से अधिक की नई परियोजनाएं कार्यान्वयनाधीन हैं।

एनटीपीसी ने वर्ष 2010-11 के दौरान देश की कुल स्थापित क्षमता में 17.76% हिस्सेदारी के साथ कुल विद्युत उत्पादन में 27.19% का योगदान देकर 220.54 बिलियन यूनिट का उत्पादन किया। कम्पनी ने पिछले वित्तीय वर्ष में वर्ष 2010-11 के लिए 9102.59 करोड़ रु. कर पश्चात लेखा परीक्षित लाभ सहित निवल बिक्री के लिए 50,000 करोड़ रु. का अंक पार किया और इसकी कुल आय 57407.30 करोड़ रु. रही।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति