मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

देश के विद्युत क्षेत्र में इस वर्ष उच्चतम क्षमता वर्धन

13th फ़रवरी, 2011

देश का विद्युत क्षेत्र इस वित्तीय वर्ष के दौरान 15000 मेगावॉट का रिकॉर्ड क्षमता वर्धन करने के लिए तैयार है, यह जानकारी आज नई दिल्ली में केन्द्रीय विद्युत मंत्री, श्री सुशीलकुमार शिंदे ने इंटरनैशनल ओ एण्ड एम इवेन्ट “इण्डियन पावर स्टेशन-2011” का उद्घाटन करते हुए दी। वर्ष 1982 में आज ही के दिन सिंगरौली (उत्तर प्रदेश) में एनटीपीसी की प्रथम यूनिट से विद्युत उत्पादन आरंभ किया गया था। उन्होंने एनटीपीसी को इसकी उपलब्धियों पर बधाई दी तथा भावी चुनौतियों के लिए तैयार रहने को कहा। श्री शिंदे ने कहा कि लगभग तीस वर्ष पहले की मामूली शुरुआत के बाद आज एनटीपीसी की कुल संस्थापित क्षमता 33000 मेगावॉट है और वर्ष 2017 तक इसकी योजना 75000 मेगावॉट कंपनी बनने की है।

श्री के सी वेणुगोपाल, विद्युत राज्य मंत्री ने अपने भाषण में विद्युत कंपनियों से समाज के सभी वर्ग़ों को भरोसेमंद और गुणवत्तापूर्ण विद्युत की आपूर्ति के जरिए देश में बिजली की स्थिति पर भावी प्रभाव के लिए नई और नवाचारी पहल करने का अनुरोध किया।

श्री पी उमा शंकर, सचिव, विद्युत मंत्रालय ने अपने भाषण में कहा कि 13 फरवरी एनटीपीसी तथा सैन्ट्रल सेक्टर दोनों के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। सरकार की योजना है कि एनटीपीसी के सहयोग से देश में विद्युत उत्पादन की क्षमता निरन्तर बढ़ती रहे। उन्होंने आगे कहा कि देश के विद्युत क्षेत्रा में 12वीं योजना के महत्वाकांक्षी क्षमतावर्धन लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए एनटीपीसी से देश को बहुत उम्मीदें हैं।

इस अवसर पर बोलते हुए श्री अरूप रॉय चौधरी, अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, एनटीपीसी ने कहा कि कंपनी विस्थापित व्यक्तियों, इसकी परियोजना के आस-पास रहने वाले लोगों सहित इसके सभी भागीदारों की जरूरतें पूरी करने के समावेशी वृद्धि मॉडल पर कार्य कर रही है और साथ ही यह उपभोक्ताओं को उपयुक्त कीमत पर विद्युत देना भी सुनिश्चित करती है। वे इऔधन की सुरक्षा के क्षेत्रों में कंपनी के सामने आ रही चुनौतियों के बारे में भी बोले।

श्री गुरदयाल सिंह, अध्यक्ष, सीईए तथा श्री एन एन मिश्रा, निदेशक (प्रचालन), एनटीपीसी लिमिटेड ने आमंत्रित प्रतिष्ठित व्यक्तियों एवं पूरे भारत तथा विदेशों से आए विद्युत अभियंताओं को भी संबोधित किया।

इवैन्ट ऑपरेशनल परफॉरमेंस बियॉन्ड एक्सिलैंस के उद्घाटन समारोह के बाद 14 तारीख को एनटीपीसी पावर मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट नोएडा में तकनीकी सत्रों और प्रदर्शनी का आयाजन किया जाएगी। सम्मेलन के दौरान विद्युत संयंत्र प्रचालन और रखरखाव पर कुल 50 से अधिक तकनीकी शोध पत्र प्रस्तुत किए जाएँगे और उन पर चर्चा होगी, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के सात तकनीकी शोधपत्र शामिल हैं। प्रदर्शनी में अनेक भारतीय तथा बहुराष्ट्रीय विनिर्माताओं की ओर से विद्युत उत्पादन उद्योग के लिए नए और नवाचारी उत्पाद प्रदर्शित किये जाएँगे।

book on O&M Practices

1982 में आज ही के दिन सिंगरौली (उत्तर प्रदेश) में एनटीपीसी की प्रथम यूनिट से विद्युत उत्पादन आरंभ होने के अवसर पर इंटरनैशनल ओ एण्ड एम इवेन्ट “इण्डियन पावर स्टेशन-2011” का उद्घाटन करते हुए केन्द्रीय विद्युत मंत्री, श्री सुशीलकुमार शिंदे ने ओ एण्ड एम प्रैक्टिसिज़ पर एक पुस्तक जारी की। चित्र में श्री के सी वेणुगोपाल, विद्युत राज्य मंत्री; श्री पी उमा शंकर, सचिव, विद्युत मंत्रालय; श्री गुरदयाल सिंह, अध्यक्ष, सीईए; श्री अरूप रॉय चौधरी, अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, एनटीपीसी तथा श्री एन एन मिश्रा, निदेशक (प्रचालन) भी हैं।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति