मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी का - बरवाडीह कैप्टिव कोयला ब्लॉक

13th मई, 2014

मैसर्स थीस माइनेक्स इंडिया प्रा. लिमिटेड (टी एम) को 23,000 करोड़ रू. की अनुमानित निविदा मूल्य पर 27 वर्षों की अवधि के लिए 30 नवम्बर, 2010 को एनटीपीसी के पाकरी - बरवाडीह कैप्टिव कोयला ब्लॉक के विकास और संचालन के लिए वैश्विक निविदा पर खान विकासक व संचालक (एम डी ओ)के रूप में नियुक्त किया गया। अनुबंध में 360 दिनों (25 नवम्बर, 11 को समाप्त) और शेष संचालन चरण की विकास अवधि शामिल है।

माइनेक्स इस तथ्य के बावजूद किसी भी प्रगति करने में विफल रहा है कि अनुबंध की विकास की अवधि में दो बार विस्तार किया गया है अर्थात शुरू में 450 दिनों के लिए और बाद में 360 दिनों के लिए। पूर्ण रूप से, विकास के चरण के लिए 1170 दिनों का मौका दिया गया। माइनेक्स की उपयुक्त विफलता को कई अवसरों पर ईमेल के माध्यम से श्री ब्रूस मुनरो, प्रबंध निदेशक, थीस प्रा. लिमिटेड, ऑस्ट्रेलिया के ध्यान में लाया गया है और इसका कोई प्रत्युत्तर नहीं मिला। एनटीपीसी ने इस संबंध में, थीस माइनेक्स द्वारा किसी प्रतिक्रिया के बिना संविदात्मक दायित्वों में चूक और पालन न करने का वर्णन करते हुए 10 जुलाई, 2012 को थीस माइनेक्स को एक कारण बताओ नोटिस जारी किया।

एनटीपीसी के शीर्ष प्रबंधन ने ऑस्ट्रेलियाई खनन मंत्री की भारत की उनकी यात्रा के दौरान उनसे मुलाकात की और मैसर्स थीस माइनेक्स द्वारा पूर्ण निष्क्रियता के बारे में उनको अवगत कराया।

कोल मंत्रालय, विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार की अनवरत समीक्षा से भी समय - समय पर थीस माइनेक्स को अवगत कराया और थीस माइनेक्स का कार्यक्षेत्र स्तर पर कोई सुधार नहीं है। इसी बीच इस कोयला ब्लॉक के लिए, कोयला मंत्रालय, भारत सरकार ने दुर्लभ राष्ट्रीय संपत्ति की खराब प्रगति पर 138.6 करोड़ रू. की बैंक गारंटी अधिरोपित की है जिसका एनटीपीसी द्वारा विरोध जा रहा है।

ठेकेदारों ने उसी क्षेत्र में कोयला निपटान संयंत्र के निर्माण के लिए अच्छी प्रगति की है। इसी प्रकार, परियोजना स्थल के करीब उत्तरी करनपुरा क्षेत्र में, ग्रामीणों के सहयोग से निर्माण प्रगति पर हैं। भारतीय रेल ने रेल लिंक लगभग पूरी कर ली है।

इस प्रकार, एनटीपीसी के पास 45 दिन की नोटिस अवधि के साथ 7 मई 2014 को अनुबंध समाप्त करने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था।

एनटीपीसी यह सूचित करना चाहेगा कि हमारी दूसरी खदान चट्टी बरिअतु में कार्य तेज गति से चल रहा है और कोयले का खनन इस वर्ष शुरू होने की उम्मीद है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति