मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी की स्थापित क्षमता अब 35,354 मेगावाट

08th नवम्बर, 2011

अरावली पावर कम्पनी प्राइवेट लिमिटेड (एपीसीपीएल), जो एनटीपीसी का एक संयुक्त उधम है, के झज्जर सिथत इनिदरा गांधी सुपर थर्मल पावर प्राजैक्ट के 500 मेगावाट के यूनिट-II के दिनांक 5.11.2011 को सायं 4:58 बजे चालू हो जाने के साथ एनटीपीसी समूह की कुल क्षमता बढ़ कर 35,354 मेगावाट हो गर्इ है।

NTPC installed capacity

पणधारियों की अपेक्षा को पूरा करना एनटीपीसी की सफलता की कुंजी है- अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक का कथन

आज एनटीपीसी के 36वें स्थापना दिवस के अवसर पर कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक श्री अरूप राय चौधरी ने कहा कि विधुत क्षेत्र में अग्रणी रहने और पणधारियों की आशा व अकांक्षा को पूरा करने के लिए विश्व में श्रेष्ठ उत्पादन कम्पनी बनने हेतु एनटीपीसी को आगे बढ़ना होगा। इस अवसर पर उनके साथ श्री आर्इ जे. कपूर निदेशक (वणिज्य); श्री डी.के. जैन, निदेशक (टी); श्री एन एन मिश्रा, निदेशक (ओ) तथा श्री एस, पी, सिंह, निदेशक (मानव संसाधन) उपसिथत थे।

श्री अरूप राय चौधरी ने कहा कि एनटीपीसी के तीन सर्वाधिक महत्वपूर्ण पणधारी हैं- संस्था के ग्राहक, परियोजनाओं में कार्यरत कर्मचारी जो विधुत उत्पादन में सहयोग दे रहे हैं और परियोजनाओं के आस-पास रहने वाले लोग।

उन्होंने आगे कहा कि उत्पादन हेतु विकास को बढ़ावा देने, पूंजीगत लागत को कम करने, परिचालन एवं रख रखाव लागत को कम करने और लोगों को प्रेरित करने से एनटीपीसी दीर्घकालिक लक्ष्य प्राप्त कर सकेगा। श्री राय चौधरी ने कहा कि कर्मचारियों से मिशनरी उत्साह सहित सम्पूर्ण प्रतिबद्धता की आशा रखने के साथ-साथ वह कम्पनी की बेहतर नीतियों और सिद्धान्तों को समाविष्ट करने के लिए कर्मचारियों से उनके सुझावों की अपेक्षा रखते हैं।

उन्होंने एनटीपीसी की परियोजनाओं और स्टेशनों (पीयूपीएस) में शहरी सुविधाएँ प्रदान करने के लिए कम्पनी की विशेष नर्इ पहल पर बल दिया ताकि इस निर्णय में कर्मचारियों की भागीदारी के साथ एनटीपीसी की परियोजनाओं में कार्यरत व्यकितयों का जीवन-स्तर और बेहतर हो सके।

भारत की सबसे बड़ी विधुत कम्पनी, एनटीपीसी की स्थापना सन 1975 में भारत में बिजली के विकास को बढ़ावा देने के लिए की गर्इ थी विधुत उत्पादन मूल्य श्रंखला में अपनी उपसिथति के साथ एनटीपीसी एक परिवर्तनकारी विधुत प्रमुख के रूप में उभरा है। भारत भर में सिथत15 कोयला आधारित, 7 गैस आधारित विधुत स्टेशनों तथा 6 संयुक्त उधमसहायक विधुत परियोजनाओं के साथ एनटीपीसी की कुल स्थापित क्षमता 35,354 मेगावाट है। देश की कुल स्थापित क्षमता के लगभग 18% शेयर के साथ भारत में उत्पादित कुल बिजली के 27%से अधिक का सहयोग देकर, इसने वर्ष 2010-11 के दौरान 220.54 बिलियन यूनिट (बीयू) बिजली का उत्पादन किया।

वर्ष 2032 तक 1,28,000 मेगावाट से अधिक की कम्पनी बनने की योजनाओं और क्षमता में तेजी से बढ़ोत्तरी के लिए एनटीपीसी वर्तमान में अनेक नर्इ परियोजनाओं पर कार्य कर रहा है। वित्त वर्ष 2010-11 में एनटीपीसी की कुल आय लगभग 57,407.30 करोड़ रु. और कर पश्चात लाभ 9,102.59 करोड़ रु. रहा है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति