मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी बिजली की दीर्घ अवधि मांग से स्थायी वास्तविक मूल्य का सृजन करेगी- श्री अरूप रॉय चौधरी, सीएमडी, एनटीपीसी

23rd सितम्बर, 2010

श्री अरूप रॉय चौधरी, अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक, एनटीपीसी लिमिटेड ने आज नई दिल्ली में कंपनी की 34वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि एनटीपीसी न्यूक्लियर विद्युत परियोजनाओं, हाइड्रो सहित अक्षय ऊर्जा क्षमता के विकास, अधिक दक्ष प्रौद्योगिकियों को अपनाने, मौसम परिवर्तन के मुद्दों पर विशेष फोकस के साथ अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास को प्रोत्साहन देने हेतु लो कार्बन ग्रोथ स्ट्रैटेजी अपनाते हुए परियोजनाओं की बड़ी पाइपलाइन के साथ सीएजीआर के 13 प्रतिशत क्षमतावर्धन पर लक्षित और क्षेत्रा में अग्रणी बने रहने के लिए उच्च वृद्धि बिन्दु पर है।

उन्होंने बताया कि 32,194 मेगावॉट की वर्तमान संस्थापित क्षमता के साथ, एनटीपीसी 12वीं योजना के अंत तक 75,000 मेगावॉट कंपनी बनने हेतु सही दिशा में अग्रसर है। वर्तमान में, एनटीपीसी के पास 17,340 मेगावॉट की क्षमता निर्माणाधीन है और 7,092 मेगावॉट के लिए (संयुक्त उद्यमों और सहायक कंपनियों सहित) निविदाएं आमंत्रित की गई हैं। 8,460 मेगावॉट के लिए व्यवहार्यता रिपोर्ट़ों को अनुमोदन दिया जा चुका है। 5,300 मेगावॉट क्षमता के लिए व्यवहार्यता रिपोर्ट़ें अनुमोदनाधीन हैं तथा लगभग 13,000 मेगावॉट के लिए व्यवहार्यता रिपोर्ट़ें तैयार की जा रही हैं।

अपने संबोधन में श्री अरूप रॉय चौधरी ने कहा कि भारत वैश्विक आर्थिक वृद्धि के सशक्त प्रेरकों में से एक होगा और एनटीपीसी भारत की आर्थिक वृद्धि का प्रेरक है। भारतीय अर्थव्यवस्था के वर्ष 2010-11 में 8.5 प्रतिशत की दर पर और वर्ष 2011-12 में 9 प्रतिशत की दर पर वृद्धि का आकलन करने के साथ एनटीपीसी के लिए महान अवसर बनेंगे जो बिजली की दीर्घ अवधि मांग से स्थायी वास्तविक मूल्य के सृजन के लिए एक विशिष्ट स्थान रखता है।

उन्होंने आगे कहा कि राष्ट्रीय ऊर्जा योजना के साथ हम 2010-2032 के लिए नैगम योजना को अंतिम रूप दे चुके हैं जिससे एनटीपीसी दुनिया का सबसे बड़ा और सर्वोत्तम विद्युत उत्पादक तथा हरित विद्युत में अग्रणी हो जाएगा। वर्ष 2032 तक कंपनी की योजना 128 गीगावॉट क्षमता प्राप्त करने की है।

श्री अरूप रॉय चौधरी ने बताया कि हम 31 मार्च 2010 के अनुसार लगभग 14,500 करोड़ रु. के नकद और नकद समकक्ष की राशि सहित त्वरित वृद्धि में निवेश करने की मजबूत स्थिति में हैं। यह नकद राशि प्रगामी रूप से उत्पादन परिसंपत्तियों में लगाई जा रही है। कंपनी के लगातार अच्छे निष्पादन और अपेक्षाकृत कम व्यापार जोखिमों के कारण भी कंपनी कम लागत ऋण के योग्य है।

एनटीपीसी समूह की कंपनियों के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि एनटीपीसी में 5 सहायक कंपनियां और 17 संयुक्त उद्यम कंपनियां हैं जो उत्पादन, विद्युत व्यापार, कोयला खनन, समकक्ष निर्माण, सेवाओं आदि जैसे विभिन्न व्यापार क्षेत्रों में कार्यरत हैं। आशा है कि इनमें से अनेक कंपनियाँ आपकी कंपनी के प्रचालनों के विस्तार में महत्वपूर्ण रूप से सहायक होंगी। उन्होंने बताया कि इन कंपनियों के तहत कुछ उत्पादन परियोजनाओं ने आकार ग्रहण करना आरंभ कर दिया है और कुछ अन्य पूरी होने के समीप हैं, जो देश में उत्पादन वृद्धि में योगदान कर रही हैं।

कंपनी की सुदृढ़ आर्थिक स्थिति पर बोलते हुए श्री अरूप रॉय चौधरी ने कहा कि कंपनी त्वरित वृद्धि में निवेश करने की मजबूत स्थिति में है। 31 मार्च 2010 के अनुसार लगभग 14,500 करोड़ रु. के नकद और नकद समकक्ष की राशि सहित कंपनी बहुत अच्छी स्थिति में है। यह नकद राशि प्रगामी रूप से परिसंपत्तियाँ बनाने में लगाई जा रही है। कंपनी की सशक्त बैलेंस शीट ऑर्गैनिक और गैर ऑर्गैनिक दोनों प्रकार के वृद्धि अवसरों को आगे बढ़ाने की साधन सम्पन्नता के संदर्भ में अपना एक विशिष्ट स्थान रखती है।.

उन्होंने कहा कि कंपनी की मजबूत वित्तीय स्थिति इसे इष्टतम लागत पर आवश्यक ऋण राशि प्राप्त करने में सक्षम बनाती है। ऋण निधिकरण के विवेकपूर्ण प्रबंधन, अपनी लो गेयरिंग, स्वस्थ कवरेज अनुपात और ऋण सेवा क्षमता के कारण एनटीपीसी को सबसे पसंदीदा ऋणी का दर्जा प्राप्त है और ये सारी विशेषताएँ इसे उच्च ऋण पात्रता के योग्य बनाती हैं।

श्री अरूप रॉय चौधरी ने कहा कि वैश्विक रूप से मान्यताप्राप्त व्यापार प्रचालन के प्रमुख क्षेत्रााsं के अलावा कंपनी ने एक अत्यंत सफल उद्यम होने के कारण सदैव अपने व्यापक अर्थ में स्थायित्व के पक्ष पर विशेष बल देते हुए व्यापार में एक समग्रता का मार्ग अपनाया है, जिसमें पर्यावरण, समाज और नैगम शासन शामिल हैं। पीपल, प्लेनेट और प्रॉफिट - ये तीन आयाम एनटीपीसी की निचली तीन रेखाओं का नीतिगत निर्धारण करते हैं।

श्री अरूप रॉय चौधरी, अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक, एनटीपीसी ने आज नई दिल्ली में कंपनी की 34वीं वार्षिक आम बैठक में शेयरधारकों को संबोधित किया ।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति