मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी उच्चतर शिक्षा को लगातार प्रोत्साहित करता है

20th जून, 2012

अपने कर्मचारियों को उच्चतर शिक्षा प्राप्त करके, अनुसंधान कौशलों का विकास करने और ऊर्जा के क्षेत्र में विकास हेतु वैज्ञानिक अध्ययन करने के लिए महारत्न कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड ने अग्रणी संस्थान, आईआईटी दिल्ली के साथ समझौता ज्ञापन पर दिनांक 19 जनू, 2012 को हस्ताक्षर किए हैं। समझौता ज्ञापन पर श्री एस. पी. सिंह, निदेशक (एचआर) एनटीपीसी और प्रो. आर. के. शेवगांवकर, निदेशक, आई आई टी दिल्ली के द्वारा हस्ताक्षर किए गए। इस अवसर पर श्री डी. के. अग्रवाल, ई डी (नेत्रा), एनटीपीसी और दोनों संगठनों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इसके साथ ही एनटीपीसी 10 इंजीनियरों के और दो बैचों को चुनिंदा क्षेत्रों में प्रतिष्ठित एम.टेक कार्यक्रम देने की योजना बना रहा है।

विद्युत प्रबंधन संस्थान, जो एनटीपीसी का शीर्ष प्रशिक्षण अभ्यास केंद्र है, आई आई टी दिल्ली में एम.टेक पाठयक्रम सफलतापूर्वक चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता आ रहा है। वर्ष 1998 में इसके स्थापना से 255 एनटीपीसी इंजीनियरों को इस पहल के जरिए आई आई टी दिल्ली से पहले ही एम.टेक की उपाधि दी गई है। संगठनात्मक क्षमता विकास के लिए एनटीपीसी की मानव संसाधन नीति की पहलों में से यह एक है। यह संगठन की प्रतिभा संपदा बढ़ाने में सहायक रहा है।

एनटीपीसी देश का सबसे बड़ा विद्युत उत्पादन संस्थान है, जिसकी कुल स्थापित क्षमता 39174 मेगावाट है, इसके 16 कोयला आधारित केंद्र 7 गैस आधारित विद्युत केंद्र और 7 संयुक्त उद्यम/सहायक विद्युत परियोजनाएं देश भर में फैली हुई हैं। इस समय एनटीपीसी 14000 मेगावाट की नई क्षमता पर कार्य कर रहा है। 2032 तक 129,000 मेगावाट से भी अधिक क्षमता वाली कंपनी बनने की योजना बना रहा है।

Promote Higher Education

अपने कर्मचारियों को उच्चतर शिक्षा प्राप्त करके, अनुसंधान कौशलों का विकास करने और ऊर्जा के क्षेत्र में विकास हेतु वैज्ञानिक अध्ययन करने के लिए महारत्न कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड ने अग्रणी संस्थान, आईआईटी दिल्ली के साथ समझौता ज्ञापन पर दिनांक 19 जनू, 2012 को हस्ताक्षर किए हैं। समझौता ज्ञापन पर श्री एस. पी. सिंह, निदेशक (एचआर) एनटीपीसी और प्रो. आर. के. शेवगांवकर, निदेशक, आई आई टी दिल्ली के द्वारा हस्ताक्षर किए गए। इस अवसर पर श्री डी. के. अग्रवाल, ई डी (एन ई टी आर ए), एनटीपीसी और दोनों संगठनों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। इसके साथ ही एनटीपीसी 10 इंजीनियरों के और दो बैचों को चुनिंदा क्षेत्रों में प्रतिष्ठित एम.टेक कार्यक्रम देने की योजना बना रहा है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति