मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ने रियो मंच पर भारत के सरोकारों पर विस्तृत चर्चा की

17th जुलाई, 2012

एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री अरुप राय चौधरी ने रियो उ 20 कारपोरेट मंच पर भारत के सरोकारों तथा प्राथमिकताओं पर विशिऐट प्रकाश डालते हुए सशä प्रस्तुतीकरण दिया। उन्होंने विदेशी लोगों में उनकी धारण को समाप्त कर दिया कि भारत ्रऐटाचार से ग्रस्त है तथा यह रेखांकित किया कि भारतीय कारपोरेट सुस्पऐट कारपोरेट अभिशासन को व्यवहार में ला रहे हैं।

इस मंच में, अन्यों के अलावा, फाचन 500 कंपनियों से मुख्य कार्यपालक अधिकारियों, अग्रणी गैर सरकारी संगठनों के प्रमुखों, सलाहकारों तथा बैंकरों ने भाग लिया। मंच का आयोजन संयुä राऐट्र महासभा के सरकारी स्तरीय विशेऐा सत्र से पूर्व इस वऐाऩ 16 जून से 18 जून को रियो.डे.जैनरो, ब्राज़ील में यूनाइटेड नेशन्स ग्लोबल काम्पेक्ट द्वारा किया गया था।

CMD ELABORATES ON INDIA’S CONCERNS

रऐटाचार.निरोधी जोखिम निर्धारणष्ष् को समÆपत सत्र को संबोधित करते हुए, श्री राय चौधरी ने भारत को रऐटाचारग्रस्त देश के रूप में देखे जाने की आशंका को प्रभावपूर्ण ढंग से समाप्त कर दिया। उन्होंने कहा कि निर्णयन में ;कद्ध गलत अवबोधन ;खद्ध यथार्थवादी गलतियां तथा ;गद्ध दुराशय का अंतहत मुद्दा निहित है। उन्होंने तीनों के बीच अंतर करने की आवश्यकता पर जोर दिया तथा गलतियों एवं गलत अवबोधन को दुराशय से जोड़ने की ्रामकता पर प्रकाश डाला।

उन्होंने एनटीपीसी जैसी भारतीय कंपनियों में उपलब्ध सशä कारपोरेट अभिशासन संरचनाओं तथा पारदÆशता, समान अवसर, निऐपक्षता तथा जवाबदेहिता सुनिशिचत करने में उनकी प्रभावात्मकता पर भी विस्तृत चर्चा की। आपके भाऐाण का स्वागत किया गया तथा सत्र के दौरान परस्पर विचार.विमर्श हेतु वäाओं के रूप में उनकी सर्वाधिक मांग थी।

्कारपोरेट सम्पोऐानीयता के नवीन भुगोलष्ष् संबंधी महत्वपूर्ण सत्र में उन्होंने सम्पोऐाणीय तथा साम्यता सुनिशिचत करने तथा इस प्रकार सम्पोऐानीयता की तीन तल रेखाओं जिनमें ष्ष्पर्यावरणीयष्ष् तल रेखा भी शामिल है, में ष्ष्सामाजिकष्ष् तथा ष्ष्आÆथकष्ष् तल रेखा पर ध्यान देने की आवश्यकता पर जोर दिया। यह भारत के वार्ताकारी सार के समनुरूप था जिसमें साम्यता को देश की रियो कार्यसूची में सबसे ऊपर रखा गया है।

कार्यक्रम के दौरान, श्री राय चौधरी ने स्कोप के अध्यक्ष के रूप में राज्य के स्वामित्वाधीन उधमों का प्रतिनिधित्व करने का उरदायित्व भी ग्रहण किया तथा तिहरी जल रेखा एवं ्रऐटाचार .निरोध के अथो में सरकारी क्षेत्र के उधमों के योगदान पर विशिऐट प्रकाश डाला।

श्री राय चौधरी विकसित देश के प्रतिनिधियों के साथ.साथ अफ्रीका.एशियार्इ क्षेत्रों से प्रतिनिधियों के साथ उनकी परस्परक्रिया ने भारत की सिथति के साथ.साथ विश्व के विकासशील देशों की सिथति पर विशिऐट प्रकाश डालने में सहायता की। यह समुचित ही था कि स्वीडन की रानी द्वारा उदघाटित तथा अनेक प्रधानमंत्रियों द्वारा भाग लिए गए उच्च अधिकार प्राप्त समापित सत्र में उन्हें अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान प्रदान किया गया।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति