मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

दादरी 490 मेगावॉट की इकाई को आज सिंक्रोनाइज़ किया गया

16th जुलाई, 2010

महारत्न एनटीपीसी ने आज 20:09 बजे अपनी दादरी परियोजना में 490 मेगावॉट की दूसरी इकाई को आरंभ करते हुए राष्ट्रमंडल खेलों को विद्युत आपूर्ति करने का अपना वचन पूरा किया।

एनटीपीसी देश की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादक कंपनी है जो देश भर के 27 विद्युत स्टेशनों से प्रचालन करती है। एनटीपीसी के पास वर्तमान में 17 स्थानों पर 17,000 मेगावॉट से अधिक की क्षमता निर्माणाधीन है और कंपनी की योजना 2017 तक 75 गीगावॉट कंपनी बनने की है।

490 मेगावॉट प्रत्येक की दो कोयला आधारित इकाइयों के साथ एनटीपीसी - दादरी परियोजना में राष्ट्रमंडल खेलों की विद्युत आवश्यकता पूरी करने के लिए कुल 980 मेगावॉट क्षमता जोड़ी गई है। इसकी प्रथम 490 मेगावॉट इकाई में इस वर्ष के आंरभ में वाणिज्यिक प्रचालन आरंभ किया था। एनटीपीसी दादरी चरण -।। से उत्पन्न बिजली दिल्ली (90 प्रतिशत) और उत्तर प्रदेश (10 प्रतिशत) में प्रदान की जाएगी।

एनटीपीसी - दादरी देश में एक विशिष्ट पहचान रखती है जहां एक ही परियोजना में 3 प्रकार हैं - कोयला आधारित परियोजना जिसमें चरण 1 में 840 मेगावॉट और चरण 2 में 980 मेगावॉट (490×2 मेगावॉट) और 829 मेगावॉट गैस आधारित स्टेशन तथा 1,500 मेगावॉट एचवीडीसी कंवर्टर स्टेशन (एनटीपीसी द्वारा स्थापित, अक्तूबर 93 से पावर ग्रिड द्वारा प्रचालित)। इसके अलावा स्टेशन में 4,500 मेगावॉट की पावर हैंडलिंग क्षमता के साथ देश का सबसे बड़ा स्विच यार्ड है।

एनटीपीसी दादरी 840 मेगावॉट कोयला आधारित स्टेशन (चरण 1) के लाभार्थी हैं दिल्ली और उत्तर प्रदेश। दादरी के 829 मेगावॉट गैस आधारित स्टेशन से उत्तर प्रदेश, उत्तरांचल, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब, दिल्ली और भारतीय रेल को विद्युत की आपूर्ति की जाती है।

एनटीपीसी दादरी स्टेषन, दादरी - धौलाना सड़क (दादरी जीटी रोड से 10 कि.मी. और राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 24 से 12 कि.मी. की दूरी) पर स्थित है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति