मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एनटीपीसी ने आई एम टी के छात्रों को संबोधित किया

27th सितम्बर, 2013

राष्ट्र के विकास के लिए उद्यमशीलता की भावना और नेतृत्व पर ध्यान केंद्रित करना अनिवार्य है - डॉ. अरुप रॉय चौधरी

CMD NTPC addresses students at IMT

महेन्द्र नाथ स्मारक पांचवी व्याख्यान माला में ''राष्ट्र निर्माण में प्रबंधन शिक्षा की बदलती हुई भूमिका'' विषयक व्याख्यान देते हुए एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, डॉ. अरुप रॉय चौधरी, ने आई एम टी, गाजियाबाद में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि उद्यमशीलता की भावना और नेतृत्व पर ध्यान केंद्रित करके भारत को अनिश्चितताओं और अस्थिरता की चुनौतियों से बाहर निकाला जा सकता है। इस अवसर पर डॉ. विवेक बनर्जी, निदेशक, आई एम टी और डॉ. एस. भट्टाचार्य, कार्यक्रम अध्यक्ष, आई एम टी भी उपस्थित थे।

युवा श्रोताओं की प्रशंसा करते हुए डॉ. रॉय चौधरी ने कहा कि ऐसे युवाओं को संबोधित करने का अवसर मिलना अपने आपमें एक वरदान है जिनकी नवोदित ऊर्जा और कठिन परिश्रम पर हमारे समाज का भविष्य टिका हुआ है। छात्रों को आने वाले कल का निर्माता बताते हुए उन्होंने उनके साथ अपने गुरूजी का संदेश साझा किया कि ''संकल्प शुद्धः हि सिद्धः``, अर्थात यदि आपकी मंशा शुद्ध है तो आपको जीवन में सफल होने से कोई नहीं रोक सकता, और उनके दृष्टिकोण में यह सभी पर लागू होता है।

इस अवसर पर उन्होंने भारतीय विषिश्टताओं सहित प्रबंधन के कुछ आधारभूत तत्वों का वर्णन करते हुए राष्ट्र निर्माण को प्रबंधन शिक्षा में निहित प्रमुख संकल्पना बताया।

आपने छात्रों से उद्यमशीलता की अपनी जबरदस्त भावना तथा नेतृत्व संबंधी गुणों के लिए विख्यात संस्था के संस्थापक श्री महेन्द्र नाथ के जीवन का अनुसरण करने और उससे कुछ सीखने का आह्वान किया।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति