मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

प्रधानमंत्री ने कहा-सभी के लिए निर्बाध ऊर्जा और 24 घंटे बिजली हमारा फोकस और मिशन होगा।

21st अगस्त, 2014

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने एनटीपीसी के मौदा सुपर थर्मल पावर परियोजना के 1000 मेगावाट (2X500 मेगावाट) चरण-1 को, चरण-I में 5459 करोड़ रुपए के निवेश के साथ जिला नागपुर, के निकट मौदा में राष्ट्र को समर्पित करते समय भारी जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि निर्बाध ऊर्जा विद्युत क्षेत्र में हमारा फोकस होगा और सभी के लिए 24 घंटे बिजली हमारा मिशन होगा और चरण-II के लिए 7921 करोड़ रुपए के निवेश किया जा रहा है। यह परियोजना राज्यह में एनटीपीसी का सबसे बड़ा विद्युत स्टेशन होने के लिए तत्पर है।

बुनियादी सुविधा के महत्व पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बुनियादी सुविधा के बगैर कोई भी देश विकास नहीं कर सकता, यह तभी होता है जब हम एनटीपीसी मौदा जैसी इन्फ्रान परियोजनाओं को स्थापित करने में सक्षम हों, जिससे हम देश के विकास की ओर बढ़ सकते हैं। उन्हों ने कहा आज के परिदृश्य में बिजली राष्ट्र के विकास की मुख्य प्रवर्त्तक है और जीवन स्तर को उठाने में समाज के सभी वर्गों की जरूरत है। हमारे गांवों में शाम को एक ठहराव आ जाता है क्यों कि वहां बिजली नहीं होती है, देश के अन्य क्षेत्रों में भी जहां बिजली उपलब्ध‍ रहती है, लोगों को दिन में केवल 4-6 घंटे ही बिजली मिलती है।

मैं बिजली को देश के विकास के लिए अति महत्वपूर्ण समझता हूं और इसलिए में जब से देश का प्रधानमंत्री बना हूं, इस क्षेत्र पर मुख्य ध्यांन रहा है । उन्होंने कहा कि स्वच्छ ऊर्जा पर अब हमारा फोकस होगा तथा सभी के लिए 24 घंटे बिजली हमारा मिशन होगा।

अपने भाषण में, उन्होंने कहा, बिजली हमारी जिंदगी से सिर्फ अंधेरे को ही नहीं भगाती है बल्कि‍ इसके साथ उद्योग, रोजगार एवं समृद्धि लाती है। इसलिए विद्युत के सभी उपलब्ध स्रोतों, यह हवा, सौर, कोयला, गैस अथवा अपशिष्ट सामग्री हो सकती है, से बिजली पैदा करना हमारा प्रयास होगा। यह बहुविध ईंधन दृष्टिकोण हमें रुफ टाप सौर नीति में पहुंचाएगा जहां घर का मालिक स्वयं के लिए विद्युत पैदा करने में सक्षम होंगे।

उन्होंने कहा हम अधिकतम विद्युत उत्पादन के लिए हमारी विद्युत परियोजनाओं के लिए ईंधन सुनिश्चि‍त करने की दिशा में काम कर रहे हैं, परंतु हमें उत्पादित बिजली को विवेकपूर्ण तरीके से इस्ते्माल करने की जरूरत है। उन्होंने बिजली बचाने पर जोर दिया और सुझाव दिया कि हमें स्कूूलों में विद्यार्थियों के लिए इसे अनिवार्य विषय बनाया जाना चाहिए और सभी के द्वारा एक मिशन के रूप में लिया जाएगा।

Clean energy

माननीय राज्यपाल, महाराष्ट्र, श्री के. शंकरनारायनन, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, जहाजरानी, ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पेयजल एवं स्वछता मंत्री श्री नितिन गडकरी, और केंद्रीय राज्य विद्युत मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), कोयला एवं नई एवं नवीकरणीय ऊर्जा, श्री पीयूष गोयल, महाराष्ट्र राज्य से अन्य नेताओं एवं गणमान्य व्यक्तिोयों के साथ, अपर सचिव, विद्युत, भारत सरकार श्री डी. चौधरी, और एनटीपीसी के सीएमडी डॉ. अरुप रॉय चौधरी भी उपस्थित थे।

मौदा चरण-I से महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, छत्तीगसगढ़, गोवा, जम्मू कश्मीर राज्यों एवं दमन द्वीव एवं दादर नगर हवेली संघशासित प्रदेशों को बिजली की आपूर्ति की जाती है। महाराष्ट्र के नागपुर क्षेत्र में स्थित मौदा परियोजना की अतिम क्षमता 2320 मेगावाट होगी। परियोजना की 1320 मेगावाट (2X660 मेगावाट) चरण-II को 13वीं योजना के आरंभ में शुरू करने का लक्ष्य है।

एनटीपीसी, जो देश में सबसे बड़ी पावर यूटीलिटी है, देश की विद्युत जरूरतों को पूरा करने में और इसके आर्थिक एवं सामाजिक विकास में सहयोग करने में प्रमुख भूमिका अदा कर रही है। कंपनी को हाल ही के वर्षों के इसकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए सरकार द्वारा ''महारत्न'' के रूप में मान्यूता प्रदान की गई है। एनटीपीसी का भारत के विकास को गतिशील बनाते हुए विश्व का सबसे बड़ा एवं बेहतर विद्युत उत्पादक बनने का दृष्टिषकोण है।​


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति