मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

हाइड्रो इंजीनियरी कॉलेज की स्थारपना के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्तारक्षर

29th जुलाई, 2016

राज्य में तकनीकी शिक्षा को बढावा देने के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार, एनटीपीसी लि. तथा एनएचपीसी ने हिमाचल प्रदेश में हाइड्रो इंजीनियरी कॉलेज स्‍थापित करने के लिए गत 29 जुलाई 2016 को नई दिल्ली में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर से केंद्र सरकार तथा हिमाचल राज्य सरकार के बीच संघीय भावना की दृष्‍टि से सहयोग के एक नए युग का सूत्रपात होगा तथा इससे देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के विजन को आगे ले जाने में हिमाचल प्रदेश के लोगों की शैक्षणिक तथा कौशल विकास की जरूरतों को बहुत लाभ होगा।

भारत सरकार के माननीय केन्द्रीय मंत्री (स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण) श्री जगत प्रकाश नड्डा, हिमाचल प्रदेश के माननीय भूतपूर्व मुख्‍यमंत्री श्री प्रेम कुमार धूमल, केन्द्रीय विद्युत, कोयला एवं नवीन एवं नवीकरणीय उर्जा तथा खान मंत्रालय के स्वतंत्र प्रभार वाले माननीय राज्यमंत्री श्री पीयूष गोयल; माननीय मंत्री श्री जी. एस. बाली (परिवहन, तकनीकी शिक्षा, व्यावसायिक एवं औद्योगिक प्रशिक्षण के अतिरिक्त प्रभार के साथ खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले), हिमाचल प्रदेश के माननीय सांसद श्री अनुराग ठाकुर, श्री राम स्‍वरूप शर्मा, श्री विरेन्‍द्र कश्‍यप एवं श्रीमती विप्लव ठाकुर की गौरवपूर्ण उपस्‍थिति में हिमाचल प्रदेश के तकनीकी शिक्षा, व्‍यावसायिक तथा औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के निदेशक श्री राजेश्वर गोयल तथा एनटीपीसी लि. के क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (हाइड्रो) श्री के.के. सिंह और एनएचपीसी के कार्यकारी निदेशक (सीएसआर एंड एसडी) श्री एस. मित्रा ने इस समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए।

इस अवसर पर अपर सचिव (विद्युत) श्रीमती शालिनी प्रसाद,  संयुक्‍त सचिव (थर्मल) श्री अनिरूद्ध कुमार, संयुक्‍त सचिव (हाइड्रो) श्रीमती अर्चना अग्रवाल, हिमाचल प्रदेश सरकार के प्रधान सचिव श्री संजय गुप्‍ता, एनटीपीसी लि. के सीएमडी श्री गुरदीप सिंह तथा एनएचपीसी के सीएमडी श्री के.एम. सिंह, एनटीपीसी के निदेशक (एचआर) श्री यू.पी. पाणि, एनएचपीसी के निदेशक (एचआर) श्री आर.एस.मीणा भी उपस्थित रहे।

हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के बादला में हाइड्रो इंजीनियरी कॉलेज स्थापित करने के लिए एनटीपीसी और एनएचपीसी दोनों में से प्रत्येक ने प्रथम चरण में 37.50-37.50 करोड़ रुपए (कुल 75 करोड़ रुपए) का अंशदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। एनटीपीसी और एनएचपीसी दोनों में से प्रत्येक द्वितीय चरण में 12.5-12.5 करोड़ रुपए (कुल 25 करोड़ रुपए) जारी करने पर भी विचार करेंगे। एनटीपीसी और एनएचपीसी दोनों में से प्रत्येक संचालन संबंधी व्‍यय के लिए पांच वर्षों के लिए प्रतिवर्ष 2.5-2.5 करोड़ रुपए (कुल 5 करोड़ रुपए) का भी अंशदान करेंगे। हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा प्रस्‍तावित कॉलेज के लिए भूमि की पहचान बिलासपुर जिले के बादला में पहले ही की जा चुकी है और यह भूमि इस प्रयोजन के लिए पंजीकृत सोसाईटी को सौंप दी जाएगी। हिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्‍वविद्यालय से संबद्ध इस कॉलेज की शासी निकाय में एनटीपीसी, एनएचपीसी तथा भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय का प्रतिनिधित्‍व होगा। 


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति