मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

सरकार ने कोयला खदान सरेंडर करने के एनटीपीसी के अनुरोध को स्वीकार किया

21st अगस्त, 2019

सरकार ने एनटीपीसी द्वारा जम्मू-कश्मीर राज्य ऊर्जा विकास निगम लिमिटेड (जेकेएसपीडीसी) के साथ संयुक्त रूप से आवंटित ओडिशा में स्थित कुदनाली-लुबुरी कोल ब्लॉक को सरेंडर करने के अनुरोध को जुलाई 2013 में स्वीकार कर लिया है।

यह खदान एनटीपीसी को उत्तर प्रदेश में 1320 मेगावाट बिल्हौर थर्मल पावर प्लांट विकसित करने के लिए आवंटित की गई थी, जिसे अब सौर संयंत्र के रूप में विकसित किया जा रहा है और इसके लिए उत्तर प्रदेश के साथ विद्युत खरीद समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

इस संदर्भ में एनटीपीसी ने कोयला मंत्रालय को पत्र लिखकर खदान सरेंडर करने को कहा था।

एनटीपीसी में वर्तमान में 10 कोयला ब्लॉक अर्थात पकरी बारवाडीह, चट्टीबरियातू (छट्टीबरियातू-दक्षिण सहित), केरंदरी, दुलंगा, तलाईपल्ली, भलुमुड़ा, बनई, मंदाकिनी-बी, बनहारडीह और बादाम कोल ब्लॉक हैं, जिनमें 7.3 अरब टन से अधिक भूगर्भीय भंडार हैं और लगभग 113 मिलियन टन प्रतिवर्ष उत्पादन क्षमता है।

कंपनी ने कोयला खनन में भी काफी प्रगति की है और पिछले वित्तीय वर्ष में पकरी-बरवाडीह और दुलंगा माइंस से लगभग 7.31 एमएमटी कोयला निकाला गया था। एनटीपीसी ने इस वित्तीय वर्ष में 10.4 मिलियन मीट्रिक टन कोयले का उत्पादन करने का लक्ष्य रखा है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति