मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

श्री पीयूष गोयल द्वारा ग्रामीण भारत के दलित छात्रों के लिए एनटीपीसी मोबाइल साइंस लैब का शुभारंभ

27th अप्रैल, 2015

Shri Piyush Goyal flags off NTPC Mobile Science labs for Underprivileged students in Rural India

ग्रामीण छात्रों के बीच सीखने की जिज्ञासा एवं सृजनशीलता की जरूरत को समझते हुए श्री पीयूष गोयल, माननीय विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीनीकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने कहा कि मुझे यह जानकारी खुशी हो रही है कि एनटीपीसी ग्रामीण भारत के छात्रों के लिए मोबाइल साइंस लैब खोल रही है। यह एक नवीन अवधारणा है जिसके द्वारा हम वैज्ञानिक पहलुओं को आसानी से समझ सकते हैं जैसा कि ग्रामीण क्षेत्रों के युवा लड़के एवं लड़किया खुली सोच के लिए जाने जाते हैं। मुझे भरोसा है कि यह लैब ऑल व्हील नामक नई पहल दूरस्थ क्षेत्रों के प्रतिभाशाली युवाओं को कुछ अलग सोचते हुए बेहतर तरीके से समझने एवं खीखने के लिए प्रोत्साहित करेगी और भावी वैज्ञानिक तैयार करेगी।  श्री पीयूष गोयल, माननीय विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीनीकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार द्वारा तीन मोबाइल सर्विस लैब का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर श्री पी के सिन्हा, सचिव विद्युत, भारत सरकार, डॉ. अरूप राय चौधरी, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एनटीपीसी, श्री यू. पी. पाणि, निदेशक (मा.सं.), एनटीपीसी और विद्युत मंत्रालय एवं एनटीपीसी के अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

भारत की सबसे बड़ी विद्युत उपयोगिता एनटीपीसी, मोबाइल साइंस लैब (एमएसएल) का शुभारंभ कर रही है जिसमें लैब वाहन पर ग्रामीण भारत के बच्चों की सीखने की जिज्ञासा पर आधारित कार्यरत साइंस मॉडल एलसीडी टीवी पर लगाए गए हैं। यह ग्रामीण शिक्षा के लिए क्रांतिकारी पहल हैं और इससे दूरस्थ क्षेत्र के बच्चे विज्ञान को प्रायोगिक तौर पर सीखेंगे।

एनटीपीसी द्वारा प्रारंभ में अगस्तया इंटरनेशनल फाउंडेशन के माध्यम से दर्लिपल्ली, पाकरी बरवाडीह एवं कहलगांव में निर्माणाधीन परियोजनाओं में तीन मोबाइल साइंस लैब उपलब्ध कराए जाएंगे। प्रत्येक मोबाइल साइंस लैब एनटीपीसी परियोजना के आस-पास के लगभग 20 स्कूलों को कवर करेगी जिससे प्रतिवर्ष लगभग 16000 छात्रों को लाभ मिलेगा। तीन वर्षों के भीतर 1,40,000 से अधिक छात्रों को इससे लाभ मिलेगा और बच्चों के बीच सीखने की जिज्ञासा एवं कला के स्तर में वृद्धि होगी। मोबाइल साइंस लैब के प्रशिक्षक स्थानीय समुदाय के होंगे।

मोबाइल साइंस लैब में निम्नलिखित पर विशेष ध्यान दिया जाएगाः

  • स्कूल का भ्रमण : प्रत्येक मोबाइल साइंस लैब दूरस्थ क्षेत्रों के स्कूलों का भ्रमण करेगी जिसमें राष्ट्रीय पाठ्यक्रमों एवं एनसीईआरटी पाठ्यक्रमों के अनुसार माध्यमिक स्तर के स्कूली बच्चों के बीच जागरूकता के लिए भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान एवं गणित के विषयों को शामिल करते हुए 100 से अधिक साइंस मॉडल होंगे।
  • युवा प्रशिक्षक कार्यक्रम : प्रयोगों के माध्यम से सीखने एवं देखने के अलावा छात्र अपने क्षेत्रों को पढ़ाने के लिए युवा प्रशिक्षकों के रूप में प्रशिक्षित होंगे।
  • विज्ञान मेला : व्यापक भागीदारी के लिए साधारण मॉडलों को दिखाते हुए विज्ञान मेले आयोजित किए जाएंगे और युवा प्रशिक्षक वैज्ञानिक घटनाओं जैसे सूर्य एवं चन्द्र गहण, मौसम बदलाव, प्रेशर एवं वॉल्यूम का संबंध आदि को दिखाएंगे।
  • गतिविधि कैम्प : ग्रीष्मकालीन एवं शीतकालीन छुट्टियों के दौरान बच्चों के लिए सीखने से संबंधित गतिविधि पर विशेष जोर। रात में एमएसएल टीम गांवों का दौरा करेंगी और अभिभावकों के बीच जिम्मेदारी के भाव को बढ़ाने पर विशेष ध्यान देने के साथ गांवों के लोगों को एक स्थान पर एकत्रित कर मॉडल एवं प्रयोगों को दिखाएगी और अभिभावकों को अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित करेगी।
  • अध्यापक प्रशिक्षण : एमएसएल अध्यापकों के बीच क्रिएटिव सोच को बढ़ाने एवं समस्या समाधान के कौशल विकास के लिए अध्यापक प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करेगी। प्रशिक्षक अध्यापकों एवं बच्चों के साथ अध्यापक प्रशिक्षण एवं कक्षा की आवश्यकता के बीच के अंतर को खत्म करेगा।

« पीछे प्रेस विज्ञप्ति