मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

भारत में व्यावसायिक अवसरों का पता लगाने हेतु एनटीपीसी का एनआईआईएफ के साथ समझौता

16th जुलाई, 2020

नई दिल्ली, 16 जुलाई, 2020: देश की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादक कम्पनी, एनटीपीसी लि. आज नवीकरणीय ऊर्जा और विद्युत वितरण सहित भारत में अन्य पारस्परिक हित जैसे क्षेत्रों में निवेश करने से संबंधित अवसरों का पता लगाने हेतु राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष लिमिटेड के माध्यम से कार्यरत राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष (एनआईआईएफ) के साथ एक समझौता ज्ञापन में शामिल हुई।

एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, श्री गुरदीप सिंह और एनआईआईएफएल के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी, श्री सुजॉय बोस की गरीमामयी उपस्थिति में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। एनटीपीसी के निदेशक (वाणिज्यिक) श्री ए के गुप्ता, एनआईआईएफ की कार्यकारी निदेशक – प्रत्यक्ष निवेश श्रीमती अम्बालिका बैनर्जी, एनटीपीसी के निदेशक (वित्त) श्री ए के गौतम, एनआईआईएफ के प्रबंध भागीदार मास्टर फन्ड श्री विनोद गिरि और दोनों संगठनों के अन्य वरिष्ठ गणमान्य जन भी इस अवसर पर उपस्थिति थे।

एनटीपीसी की महाप्रबंधक (व्यवसाय विकास-घरेलू) श्रीमती संगीता कौशिक और एनआईआईएफएल के कार्यकारी निदेशक एवं मुख्य परिचालन अधिकारी श्री राजीव धर के मध्य वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

इस समझौता ज्ञापन के साथ, एनटीपीसी और एनआईआईएफ का लक्ष्य देश में ऊर्जा के टिकाऊ और सुदृढ़ अवसंरचनात्मक ढांचे के विकास के भारत के स्वप्न को साकार करने में और-अधिक सहायता करने हेतु सहयोग करना है। इस साझेदारी का उद्देश्य एनटीपीसी की तकनीकी विशेषज्ञता और एनआईआईएफ की पूंजी जुटाने एवं प्रमुख निवेशकों के साथ कायम अपने संबंधों का लाभ लेते हुए सर्वोत्तम वैश्विक व्यावसायिक कार्यव्यवहारों को लाने की योग्यता को एक साथ लाना है।

62,110 मेगावॉट की कुल स्थापित क्षमता के साथ, एनटीपीसी समूह में 25 सहायक कम्पनियों एवं संयुक्त उद्यम विद्युत संयंत्रों सहित 24 कोयला, 7 संयुक्त चक्रीय गैस/तरल ईंधन, 1 जलविद्युत, 13 नवीकरणीय ऊर्जा वाले कुल 70 विद्युत संयंत्र हैं।.

एनटीपीसी का लक्ष्य 2032 तक अपनी समग्र विद्युत उत्पादन क्षमता का लगभग 30 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों से बनाने का है।

एनआईआईएफ लिमिटेड अपने तीन फन्डों – मास्टर फन्ड, फन्ड ऑफ फन्ड्स और स्ट्रेटेजिक अपोर्च्यूनिटी फन्ड में 4.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की इक्विटी पूंजी की प्रतिबद्धताओं का प्रबंधन, इनमें से प्रत्येक फन्ड के लिए अपनी विशिष्ट निवेश-रणनीति के साथ करता है। भारत सरकार द्वारा पुष्टित, एनआईआईएफएल अन्तर्राष्ट्रीय और भारतीय निवेशकों के लिए एक सहयोगी निवेश मंच है। एनआईआईएफएल अपने निवेशकों के लिए आकर्षक जोखिम-समायोजित आय उत्पन्न करने के उद्देश्य से परिसम्पत्तियों की विभिन्न श्रेणियों यथा अवसंरचना, प्राइवेट इक्विटी और भारत में अन्य विविधतापूर्ण क्षेत्रों में निवेश करता है। एनआईआईएफ मास्टर फन्ड भारत का सबसे बड़ा इन्फ्रास्टैक्चर फन्ड है और यह परिवहन एवं ऊर्जा जैसे मुख्य अवसंरचना क्षेत्रों में निवेश करता है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति