मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

प्रधानमंत्री द्वारा हिमाचल में 1732 मेगावाट की तीन जलविद्युत परियोजनाओं का लोकापर्ण

18th अक्टूबर, 2016

गत 18 अक्तूबर, 2016 को हिमाचल प्रदेश में एनटीपीसी-कोलडैम के 800 मेगावाट जलविद्युत पावर स्टेशन, एनएचपीसी की 520 मेगावाट पार्वती जलविद्युत परियोजना और एसजेवीएनएल के 412 मेगावाट रामपुर जलविद्युत स्टेशन राष्ट्र को समर्पित करते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सार्वजनिक क्षेत्र के योगदान की सराहना की और कहा कि ये जलविद्युत परियोजनाएं हिमाचल और देश के अन्य भागों में समृद्धि लायेगी।

हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री वीरभद्र सिंह, केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जगत प्रकाश नड्डा, केन्द्रीय विद्युत, कोयला, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा एवं खान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री पीयूष गोयल तथा हिमाचल प्रदेश के गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री गुरदीप सिंह ने स्थल पर प्रदर्शित मॉडल के माध्यम से कोलडैम परियोजना की मुख्य विशेषताओं और उल्लेखनीय उपलब्धियों से प्रधानमंत्री को अवगत कराया। निदेशक (परियोजना) श्री एस.सी. पाण्डेय, निदेशक (प्रचालन) एनटीपीसी श्री के.के. शर्मा एवं क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (हाइड्रो क्षेत्र) श्री के.के. सिंह इस अवसर पर उपस्थित थे।

200 मेगावाट की चार इकाइयों से उत्पादन आरंभ होने से, एनटीपीसी-कोलडैम ने 800 मेगावाट की क्षमता प्राप्त कर ली है और यह उत्तरी ग्रिड को व्यस्त समय की क्षमता प्रदान करता है। यह संयंत्र 90 प्रतिशत वार्षिक निर्भरता आधार पर वर्ष में 3054 जीडब्ल्यूएच बिजली का उत्पादन करेगा।

कोलडैम से उत्पादित बिजली का बारह प्रतिशत गृह राज्य हिमाचल प्रदेश को निःशुल्क जबकि 1 प्रतिशत स्थानीय क्षेत्र विकास निधि के खाते से राज्य को आपूर्ति किया जा रहा था। परियोजना से प्रभावित सभी परिवारों को भी प्रति माह 100 यूनिट बिजली निःशुल्क प्रदान की जा रही है जो कुल उत्पादन का 0.62 प्रतिशत है। इस प्रकार संयंत्र से उत्पादित बिजली का कुल 13.62 प्रतिशत हिमाचल प्रदेश को निःशुल्क प्रदान की जा रही है, बाकी बिजली की आपूर्ति अन्य लाभार्थियों नामतः दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू व कश्मीर, उत्तराखंड तथा चंडीगढ़ को की जा रही है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति