मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

टांडा एंड खरगोन में 660 मेगावाट की दो ईकाइयों के साथ एनटीपीसी की स्थापित क्षमता 57,106 मेगावाट

03rd अक्टूबर, 2019

उत्तर प्रदेश के टांडा सुपर थर्मल पावर स्टेशन की स्टेज-2 की 660 मेगावाट की यूनिट-1 और मध्य प्रदेश के खरगोन सुपर थर्मल पावर स्टेशन की 660 मेगावाट की यूनिट-1 के साथ एनटीपीसी और एनटीपीसी समूह की कुल स्थापित क्षमता क्रमश: 48645 मेगावाट और 57106 मेगावाट हो गई है।

खरगोन सुपर थर्मल पावर स्टेशन भारत का पहला अल्ट्रा-सुपरक्रिटिकल प्लांट है जो 41.5 प्रतिशत की दक्षता पर संचालित होता है, उच्च दक्षता के परिणामस्वरूप विद्युत की समान मात्रा पैदा करने के लिए कोयले की खपत कम होगी जिसके परिणामस्वरूप कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में 3.3% की कमी आएगी।

एनटीपीसी लिमिटेड वर्तमान में 54 पावरस्‍टेशनों (23 कोयला, 7 संयुक्त साइकिल गैस/तरल ईंधन, 2 हाइड्रो, 1 पवन और 11 सौर परियोजनाओं) का संचालन करती है और इसमें 10 कोयला और 1 गैस स्टेशन हैं, जिनका स्वामित्व संयुक्त उद्यमों या सहायक कंपनियों के पास है इससे क्षमता को 57,106 मेगावाट तक हो गई है। एनटीपीसी का लक्ष्य वर्ष 2032 तक 130 गीगावाट की कुल स्थापित क्षमता प्राप्‍त करना है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति