मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

कोरोनवायरस के खिलाफ लड़ाई में एनटीपीसी राष्ट्र के साथ

28th मार्च, 2020

नई दिल्ली, 28 मार्च, 2020:

भारत की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादक कंपनी, एनटीपीसी लिमिटेड ने कोविड-19 की वैश्विक महामारी के विरूद्ध अपने अस्पतालों को समर्पित कोविड-19 इकाइयों में परिवर्तित करने के लिए कदम उठाए हैं।

एनटीपीसी ने पहले से ही अपने 45 अस्‍पतालों/स्वास्थ्य ईकाइयों का उपयोग आइसोलेशन की सुविधा तैयार करने के लिए किया है और ऐसे मामलों को प्रभावी ढंग से संभालने के लिए चिकित्सा कर्मचारियों के लिए अपेक्षित संख्या में उपकरणों की खरीद की है।

इन अस्पतालों में सभी सुविधाओं वाले लगभग 121 बेड आइसोलेशन वार्ड में बदल दिए गए हैं।

कोविड मामलों से निपटने के लिए राज्य सरकारों के उपयोग के लिए तैयार किए गए प्रमुख मेडिकल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर में दिल्ली में बदरपुर स्‍थित अस्‍पताल और ओडिशा के सुंदरगढ़ का मेडिकल कॉलेज अस्‍पताल शामिल हैं। राज्य सरकार द्वारा कोरबा अस्‍पताल के अधिग्रहण पर भी विचार किया जा रहा है।

मेडिकल स्टाफ को व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) के उपयोग के संबंध में वीडियो कॉल पर भी प्रशिक्षित किया गया है। स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार दिनांक 22 मार्च को सभी अस्पतालों में एक पूर्व-अभ्‍यास आयोजित किया गया था। इसके अलावा, 1160 पीपीई, 30000 मास्क और 30000 दस्ताने सभी परियोजनाओं और स्टेशनों को भेजे गए हैं।

जिला प्रशासन के लिए हजारीबाग में कुल 8 वेंटिलेटर खरीदे जा रहे हैं। वर्तमान में, परियोजना अस्पतालों में 7 वेंटिलेटर हैं। इसके अतिरिक्त, वेंटिलेटर वाली 18 उन्नत स्तर की एम्बुलेंस हैं। विभिन्न अस्पतालों के लिए और भी 10 वेंटिलेटर खरीदने की प्रक्रिया जारी है। इसके अलावा, उपलब्ध एजेंसियों से अतिरिक्त पीपीई, सेनिटाईजर प्राप्‍त करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

अन्य उपायों के अलावा, एनटीपीसी ने एक अस्‍पताल के लिए 1,000 बेडशीट खरीदने हेतु एनटीईसीएल, वेल्लूर के जिला प्रशासन को आर्थिक सहयोग दिया है।

एनटीपीसी भिलाई में, एनजीओ के माध्यम से आसपास के क्षेत्रों में भोजन उपलब्ध कराने और प्राथमिक स्वास्थ देखभाल केंद्रों (पीएचसी) में आवश्यक दवा उपलब्ध कराने के लिए जिला अस्‍पताल में सहायता के लिए धनराशि आरक्षित की गई है।

इसी प्रकार, एनटीपीसी, रिहंद ने सैनिटाइटर और अन्य सुरक्षा उपकरणों के वितरण के लिए पर्याप्त धनराशि का आश्वासन दिया है।

इसके अलावा, भारत सरकार के दिशानिर्देशों के संदर्भ में एनटीपीसी की परियोजनाओं/ स्टेशनों पर ठेकेदारी श्रमिकों की आवश्यकता को युक्तिसंगत बनाया गया है। एनटीपीसी ने अपनी एजेंसियों को ऐसी असाधारण परिस्‍थिति में इन श्रमिकों की अनुपस्थिति को ड्यूटी पर उपस्‍थित मानने के लिए कहा है। जहां तक मजदूरी का प्रश्‍न है, इसमें कोई बाधा नहीं होगी और उन्हें समय पर भुगतान किया जाएगा। कुछ मामलों में, पहले ही अग्रिम सहित भुगतान किया जा चुका है।

ठेकेदारी पर रखे श्रमिकों के लिए आवास, भोजन और चिकित्सा सुविधाओं की व्यवस्था एनटीपीसी के कई परियोजनाओं/स्टेशनों पर की गई है। कुछ स्थानों पर, आसपास के बुजुर्ग व्‍यक्‍तियों/गर्भवती स्‍त्रियों और स्तनपान कराने वाली माताओं/शारीरिक रूप से विकलांग व्‍यक्‍तियों और गरीब परिवारों सहित समाज के हाशिए पर रहने वाले अन्य लोगों के लिए भोजन के पैकेट/दैनिक आवश्यकताओं की वस्तुओं का वितरण किया गया है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति