मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी लि.- एक उत्कृष्ट कार्यनिष्पादक ... भारत के विकास को गति देते हुए

22nd सितम्बर, 2015

  • एनटीपीसी 10 सितम्बर 2015 को भारत में कुल 45548 मेगावाट (सम्पूर्ण स्वामित्व वाली इकाइयों के माध्यम से 39352 मेगावाट और सहायक व संयुक्त उपक्रमों के माध्यम से 6196 मेगावाट सहित) संस्थापित क्षमता के साथ संस्थापित क्षमता और उत्पादन दोनों के संदर्भ में भारत का सबसे बड़ा विद्युत उत्पादक है। इसके अतिरिक्त कम्पनी की 23,004 मेगावाट की क्षमता है जो इस तिथि को पूर्णता के विभिन्न चरणों में प्रगति पर है।
  • नवीनीकरण को छोड़कर लेकिन सहायक तथा संयुक्त उपक्रमों की क्षमता सहित एनटीपीसी की क्षमता ने भारत की कुल क्षमता में 18.77 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी का प्रतिनिधित्व किया है। हमने वित्तीय वर्ष 2015 में भारत की कुल क्षमता में 24.95 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी का प्रतिनिधित्व करते हुए 260.58 बिलियन यूनिट विद्युत का उत्पादन किया।
  • कैलेण्डर वर्ष 2014 में, प्लेट्स किये द्वारा गये एक सर्वे के अनुसार एनटीपीसी को परिसम्पत्ति मूल्य, राजस्व, निवेशित पूंजी पर लाभ और आय के आधार पर स्वतंत्र ऊर्जा उत्पादक (“आईपीपी”) तथा ऊर्जा व्यवसायी के रूप में विश्व में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।
  • फोब्र्स ग्लोबल सूची 2015 में एनटीपीसी को विश्व में समग्ररूप से 431 वां स्थान तथा लाभ के संदर्भ में 379 वां और बाजार मूल्य के संदर्भ में 616 वां स्थान प्राप्त हुआ।
  • वर्ष 2032 तक नवीनीकरण ऊर्जा पर अधिक ध्यान केन्द्रित करने के साथ 128 गिगावाट उत्पादन क्षमता के निर्माण का लक्ष्य है। अगले 5 वर्षों में 10 गिगावाट सौर पीवी क्षमता के पोर्टफोलियो के निर्माण की योजना है।
  • प्रथम हाइड्रो प्रोजेक्ट कमीशनड्- कोलडेम में 800 मेगावाट, 110 मेगावाट सौर पीवी क्षमता कमीशनड्, 250 मेगावाट निर्माणाधीन, 1260 मेगावाट सौर पीवी क्षमता निविदा के अन्तर्गत।
  • स्वयं या संयुक्त उपक्रम कम्पनियों के माध्यम से व्यापार व्यवसाय, कोयला खनन परामर्श, उपकरण निर्माण और वितरण में वैल्यू चैन में भलीभांति विविधता।
  • सभी ऊर्जा संयत्र विनियमित प्रतिलाभ मॉडल के अन्तर्गत हैं जिसमें लागत और निश्चित संचालन नियमों की प्राप्ति के लिए आधार विषय पर इक्विटी पर प्रतिलाभ निश्चित है। इसके परिणामस्वरूप भारत में किसी अन्य उत्पादक से भिन्न निरन्तर और सुदृढ़ संचालन संबंधी धनापूर्ति होती है।
  • कोयला आधारित विद्युत संयत्र 80 प्रतिशत से अधिक के एक पीएलएफ पर संचालित हो रहे हैं, जो 64 प्रतिशत के राष्ट्रीय औसत से कहीं अधिक है।

वित्तीय शक्तिः

  • वित्तीय वर्ष 2015 में कुल राजस्व रू. 75,362 करोड़ और कर के बाद लाभ 10291 करोड़ रुपए
  • वित्तीय वर्ष 2014-15 के अन्त में रू. 1,97,000 करोड़ से अधिक की कुल परिसंपत्तियां
  • लगभग 40-50 प्रतिशत के लाभांश भुगतान अनुपात के साथ एनटीपीसी पिछले 22 वर्षों से निरन्तर लाभांश अदा कर रहा है। वित्तीय वर्ष 2014-15 में एनटीपीसी भारत में शीर्ष की 5 लाभांश भुगतान करने वाली कम्पनियों में शामिल है। कम्पनी ने 2014-15 के दौरान अपने संचय से अपने निवेशकों को रू. 10 प्रत्येक के अंकित मूल्य के इक्विटी शेयर के लिए रू. 12.50 की दर से बोनस डिबेंचर प्रदान किये हैं।
  • वर्ष 2014-15 के लिए ऋण इक्विटी अनुपात 1.05 गुना तथा चालू अनुपात 1.22 गुना
  • पिछले 5 वर्षों में कुल स्थायी परिसम्पŸिायों में 16 प्रतिशत की संयोजित वार्षिक वृद्धि और पूंजी कार्य प्रगति पर
  • इंडस्ट्री में बेमिसाल संग्रह दक्षता। केवल 38 दिनों की बकाया प्राप्य राशियां। अपने ग्राहकों से लगातार 100 प्रतिशत देय एकत्र कर रहा है।
  • अन्तिम परिणाम निरन्तर आकर्षक रहे हैं- वित्तीय वर्ष 2014-15 में ओएनजीसी, कोल इंडिया और एसबीआई के बाद सभी पीएसयू में चैथा सबसे बड़ा शुद्ध लाभ
  • प्रगतिशील पूंजी कार्य में लाक्ड (रुद्ध) इक्विटी को अगले 3-4 वर्षों में संचालन परिसम्पत्तियों में परिवर्तित किया जायेगा, जो कुल लाभ तथा परिसम्पत्तियों (आरओसीई) और इक्विटी (आरओई) पर प्रतिलाभ को एक बड़ी शक्ति प्रदान करेगी।

प्रमुख प्रतिस्पर्धात्मक शक्ति :

  • भारतीय ऊर्जा क्षेत्र में अग्रणी स्थान
  • दीर्घ कालिक ईंधन सुरक्षा- सभी संचालित स्टेशन दीर्घ कालिक ईंधन आपूर्ति समझ्ाौतों/कोयला संबद्धों द्वारा समाविष्ट हैं।
  • उच्च संचालन दक्षता
  • क्षमता से कम कार्य करने वाले पावर स्टेशनों की कायाकल्प करने की क्षमता- 4 अलाभकारी पावर संयत्रों का कायाकल्प किया।
  • लगभग रू. 3.26 किलोवाट घंटा के औसत टैरिफ रेंज के साथ भारत में कम लागत वाला विद्युत उत्पादक
  • दूरदर्शी कुल व्यापार नीति- सभी पावर स्टेशनों के पास वितरण कम्पनियों के साथ दीर्घ कालिक पावर क्रय करार हैं।
  • सुदृढ़ बैलेंस शीट
  • योग्य और संकल्पबद्ध कार्यबल- ग्रेट प्लेस टू वर्क तथा इकोनॉमिक टाइम्स के द्वारा किये गये एक अध्ययन में सार्वजनिक क्षेत्र श्रेणी में 2015 के लिए कार्य करने के लिए सर्वोत्तम कम्पनी के रूप में चुनी गयी और ऊर्जा, तेल तथा गैस इंडस्ट्री में काम करने के लिए भी सर्वोत्तम कम्पनी के रूप में स्थान प्राप्त किया।

« पीछे प्रेस विज्ञप्ति