मीडिया

प्रेस विज्ञप्ति

एनटीपीसी ने 'गोल्डन पीकॉक अवार्ड फॉर सस्टेनेबिलिटी' जीता

20th नवम्बर, 2019

नई दिल्ली, दिनांक 19 नवंबर 2019: भारत की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादन कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड को कॉर्पोरेट गवर्नेंस एंड सस्टेनेबिलिटी के संबंध में लंदन (यूके) में आायोजित 19वें अंतरराष्‍ट्रीय सम्मेलन के दौरान 'स्थिरता के लिए गोल्डन पीकॉक पुरस्कार' 2019 से सम्मानित किया गया है।

यह पुरस्कार भारत के निदेशक संस्थान (आईओडी) द्वारा प्रदान किया गया था। पुरस्कारों के लिए भारत के उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस (डॉ) अरिजीत पासायत जूरी के अध्यक्ष थे। यह पुरस्कार सीजीएम (एसएसईए) श्री बिस्वरूप बसु, और डीएम (एसडी) श्री विकाश कुमार ने एनटीपीसी लिमिटेड की ओर से ग्रहण किया था।

एनटीपीसी को सस्टेनेबिलिटी अवार्ड पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए स्वच्छ और हरित ऊर्जा प्रदान करने के प्रयासों के लिए दिया गया है। एनटीपीसी लिमिटेड ने अपने सभी पावर स्‍टेशनों पर एसओएक्स उत्सर्जन नियंत्रण और डी-नाइट्रोजन ऑक्साइड (एनओसी) प्रणालियों के लिए एफजीडी जैसी उच्च कुशल टिकाऊ प्रौद्योगिकियों को अपनाया है।

एनटीपीसी सौर, जल, पवन से विद्युत उत्पादन करके अपने नवीकरणीय ऊर्जा पोर्टफोलियो में तेजी से वृद्धि कर रहा है। एनटीपीसी ने विद्युत उत्पादन के दौरान शून्य तरल निर्वहन (जेडएलडी) और जल संरक्षण उपाय (कम, पुनर्चक्रण और पुन: उपयोग) करने में सक्रिय दृष्टिकोण अपनाकर अपनी प्रतिबद्धता दिखाई है।

एनटीपीसी लिमिटेड देश की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादन कंपनी वर्तमान में 55 पावरस्‍टेशनों (23 कोयला, 7 संयुक्त चक्र गैस/तरल ईंधन, 1 हाइड्रो, 1 छोटे हाइड्रो, 1 पवन और 11 सौर परियोजनाओं) के साथ संचालित है और 10 कोयला और 1 गैस स्टेशन है, संयुक्त उद्यमों या सहायक कंपनियों के स्वामित्व में 57,106 मेगावाट की क्षमता ले रही है। एनटीपीसी का लक्ष्य 2032 तक 130 गीगावाट की कुल स्थापित क्षमता प्राप्‍त करना है।


« पीछे प्रेस विज्ञप्ति