निवेशक

समाचार स्पष्टीकरण

Dateसमाचार स्पष्टीकरणView
26 अप्रैल, 2017नई मद पर समाचार का स्पष्टीकरण "फिच ने एनटीपीसी के मसाला बॉन्‍ड को 'बीबीबी (ईएक्‍सपी) ईएमआर रेटिंग प्रदान की’’यहां क्लिक करें।
22 फरवरी, 2019

यह दिनांक 21 फरवरी, 2019 को फाइनेंशियल एक्सप्रेस में "ट्रिब्यूनल ने जिंदल आईटीएफ के पक्ष में 2000 करोड़ रुपये के अवार्ड पारित किए" शीर्षक से हाल ही में प्रकाशित खबर के संबंध में कंपनी से मांगे गए स्पष्टीकरण के संदर्भ में है। मांगे गए स्पष्टीकरण के संबंध में हमारे बिंदुवार उत्तर इस प्रकार हैं-

क) क्या प्रकाशित समाचार में बताई गई यह घटना हुई थी? यदि हां, तो आपको सलाह दी जाती है कि कालक्रमानुसार घटनाओं के क्रम सहित उक्त जानकारी प्रदान करने करें।

उत्तर: यह सत्य है, जिसमें मध्यस्थ न्यायाधिकरण द्वारा अवार्ड पारित करने की सूचना दी गई है, किंतु एनटीपीसी ने उचित न्यायिक निकाय में अवार्ड पारित करने के फैसले को चुनौती देने का निर्णय लिया है।

ख) उत्तर: कंपनी पर इस लेख का कोई वास्तविक प्रभाव नहीं पड़ा है।

ग) क्या कंपनी को ऐसी कोई जानकारी है, जिसकी सूचना लिस्टिंग विनियमों के विनियम 30 के तहत एक्सचेंजों को नहीं दी गई है। यदि हां, तो आपको सलाह दी जाती है कि आप उक्त जानकारी प्रदान करें और एक्सचेंजों को लिस्टिंग विनियमों के विनियमन 30 के तहत अपेक्षित इसकी सूचना पूर्व में न देने के कारण बताइए।

उत्तर: नहीं।

 
 
 
 
 
 
23 फरवरी, 2019

मीडिया रिपोर्ट ‘‘10 दिन की हलचल से कोयला खदान एनटीपीसी कनिहा के उत्पादन में 40 की गिरावट।’’ (स्रोत: https://www.business-standard.com 21 फरवरी, 2019) के संबंध में कंपनी की ओर से मांगे गए स्पष्टीकरण के संदर्भ में कहा गया है-

मांगे गए स्पष्टीकरण के संबंध में एनटीपीसी का उत्तर

हम यह उल्लेख करना चाहते हैं कि एनटीपीसी-कनिहा की इकाइयों में एमसीएल खदानों में हलचल के शुरुआती 5 दिनों के दौरान 92% पीएलएफ से अधिक उत्पादन जारी रखा। इसके बाद 17 फरवरी से प्लांट में उत्पादन धीरे-धीरे कम हो गया। 500 मेगावाट की एक इकाई में उत्‍पादन रोकना पड़ा लेकिन खदानों से कोयले की आपूर्ति बहाल होने के पश्चात 22 फरवरी से उसमें फिर से उत्‍पादन प्रारंभ कर दिया गया। अब सभी ईकाइयों का प्रचालन 92% पीएलएफ से अधिक है।

यह बताना प्रासंगिक है कि स्टैंडअलोन और समूह आधार पर एनटीपीसी की वाणिज्यिक क्षमता क्रमश: 44815 मेगावाट और 51956 मेगावाट है। इस प्रकार, कंपनी के संचालन के पैमाने पर विचार करते हुए उपर्युक्त मीडिया रिपोर्ट का कंपनी पर कोई वास्तविक प्रभाव नहीं पड़ा है।