हमारे साथ भावी संभावनाएं

कर्मचारियों का कथन

चुनौतियों की अनवरत यात्रा

यह मेरे जीवन का सौभाग्य रहा कि मुझे इस विशाल संगठन में कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ । पिछले 30 वर्ष में मुझे जो अनुभव प्राप्त हुआ वे मेरे लिए बहुत ही सार्थक थे । मेरे मन में जो चित्र सबसे पहले उभरता है वह है 7 जनवरी, 1975 को इस यात्रा का प्रारंभ, चुनौतियों की अनवरत यात्रा । हमारी चुनौतियां काफी पेचीदा दिखाई देती थी । हमने उन्हें अच्छी तरह समझा और तनाव तथा चुनौती के माहौल में उनका सामना किया, हमेशा ऐसा ही होता है और होता रहेगा । हमारी कंपनी का आकार और जिम्मेदारियां बहुत बढ़ी हैं । मेरे लिए तो व्यक्तिगत रूप से यह एनटीपीसी की अभिवृद्धि एवं विकास का प्रेरक एवं चुनौतीपूर्ण हिस्सा रहा है । मैं इसे इस संगठन में प्रतिभावान एवं मेधा संपन्न लोगों के साथ काम करने का ईनाम समझता हूं ।

मैं उन सभी व्यक्तियों का आभार व्यक्त करता हूं और उन्हें बधाई देता हूं जो इस बहुमूल्य यात्रा में मेरे साथ रहे और हर वक्त हमारे साथ खड़े रहे ।

देवेन्द्र गुलाटी
उप महाप्रबंधक (हाइड्रो इंजीनियरी), कारपोरेट केंद्र